ट्रेन से होटेल तक क्या हसीन रात थी वो – Hindi Sex Stories

हाय दोस्तो मैं राज आप लोगो का स्वागत है देसीकाहानी मे जैसा की मैने पहले भी बताया था की चुदाई करना एक सेवा है जिसे भी लंड की ज़रूरत हो मैं हमेशा रेडी रहता हूँ किसी को भी सेक्स की नीड हो मैं पूरा करता हूँ वो भी फ्री फ्री फ्री जी मेरा मानना है की चुदाई या फिर किसी भी तरीके की सेक्स करना सब से बड़ा पुण्या एनी वे अब आज की स्टोरी पे आता हूँ अभी करीब वन वीक पहले मुझे ट्रेन से कही जाना था वन नाइट का सफ़र था ट्रेन मे काफ़ी भीड़ थी शायद किसी एग्ज़ॅम के चक्कर मे भीड़ ज़्यादा था बट मैने तो करीब वन मंथ पहले ही सीट रिज़र्व कर रखा था जब ट्रेन आई तो मैने देखा मेरे बर्त मे पहले से दो तीन लड़किया बैठे थी मैने बोला हेलो ये मेरा बर्त है तो वो सारी लाड़िकिया एक साथ बोली जी कोई बात नही आप बैठ जाए और वो लोग खड़ी हो गयी मैने अपना समान सेट किया और बैठ गया और उनको भी इशारा किया की आप भी बैठ जाए कोई बात नही.

फिर मैने उनसे पूछा की क्या बात है आज इतनी भीड़ है तो वो लोग बोलने लगे की जी कल मेडिकल का एग्ज़ॅम है इसलिए हम सब जा रहे है मैने उनको ओके बोला और बेस्ट ऑफ लक विश किया फिर कुछ देर हमारी इधर उधर की बाते हुई जान पहचान हुई फिर सभी ने डिन्नर निकाला अपना अपना और मुझसे पूछी क्या आप भी हमारे साथ जोइन करेंगे तो मैने भी एस बोला और आपना डिन्नर निकाला और फिर स्टार्ट हो गया हम लोगो ने मिल कर खाया फिर मैने बोला अब कैसे करना है मुझे तो नींद आ रही है तो वो लोग बोली की अगर आपको तकलीफ़ ना हो तो आप सो जाए हम लोग आपके बर्त मे बैठ कर चले जाएँगे तो मैं थोड़ा उन्दर की तरफ होकर सो गया और वो लोग मेरे लेग के पास से होते हुए मेरे कमर तक बैठ गयी मैं भी कान मे हेड्स फोन लगा कर सॉंग्स सुनने लगा पता नही कब मुझे नींद आ गयी और मैं सो गया रात करीब 1.30 बजे मैने फिल किया मेरे लंड को कोई सहला रहा है और मैं जाग गया.

More Sexy Stories पहली चुदाई की वर्जिन क्लाइंट
बट सोने का नाटक करने लगा क्यू की मुझे भी मज़ा आ रहा था फिर मैने फील किया की मेरे हाफ पैंट के अंदर हाथ डालने की कोशिश कर रही है मैने आपना पेट सिकोड लिया ताकि आसानी से हाथ अंदर चला जाए ट्रेन के सारी लाइट्स ऑफ थी और बहुत कम रोशनी थी फिर मेरे लंड को हल्के हल्के दबाने लगी तब मैने फील किया की ये मेरे लंड को कोई एक नही एक से ज़्यादा हाथो से छू रहा है मैने मन मे सोचा क्या करू क्या ना करू फिर मैने सोचा की चुप ही रहू इनको मज़े लेने दू और मुझे भी तो मज़ा आ रहा था अब मैने करवट बदल कर सीधा होने का प्लॅन बनाया और सीधा हो गया उन लोगो ने डर कर अपना अपना हाथ हटा दिया जब मैं सीधा हुवा तो मेरा लंड पैंट से बाहर सीधा खड़ा था बट किसी को भी नज़र नही आ सकता क्यू की वो लोग मेरे सामने कवर करके बैठी थी और डार्क भी था करीब वन मिनट के बाद फिर एक हाथ मेरे लंड को टच किया और उपर नीचे करने लगा कोई मेरे बॉल को भी प्यार से दबा रहा था.

loading...

फिर थोड़ी देर के बाद मुझे अहसास हुवा की अब मेरे लंड को कोई मूह मे लेकर चूस रहा है मुझे लगा मैं जन्नत मे हूँ और मेरा भी सब्र जवाब दे गया और मैने भी किसी के बूब्स को दबा ने लगा फिर टी शर्ट के अंदर हाथ डाल कर आछे से मसाज करने लगा अब मैने फेल किया की एक मूह से लंड निकलता तो दूसरे मूह मे चला जाता था क्यू की सभी की चूसने का अंदाज अलग अलग फील हो रहा था अब मेरा झड़ने वाला था और झड़ गया सभी ने मिल कर चाट कर सॉफ कर दिया और पैंट को उपर कर दिया फिर मैने सभी को थॅंक्स बोला किसी ने कुछ भी रिप्लाइ नही किया उसके बाद मैं सो गया बहुत बाड़िया नींद आई मुझे जब सुबह उठा तो सारी लड़किया सो रही थी बैठे बैठे ही सो गयी थी मैं बाथरूम गया फ्रेश होकर वापस आया देखा सभी सो रही है मैने सभी को उठाया और बताया की दस मिनट मे ट्रेन पहुँच जाएगी फिर सभी उठ गयी और रेडी हो गयी.

More Sexy Stories बहें की चुदाई की अपनी गांद मारवाके
मैने पूछा की कहा रहना है तुम लोगो को तो बोली की कोई होटेल ले लेंगे तो मैने भी बोला होटेल तो मुझे भी लेना है क्यू ना साथ मे ही ले ले तो सभी ने डन किया फिर हमलोग बाहर आकर एक बाड़िया सा होटेल मे दो रूम लिया एक रूम मे वो तीनो लाड़िकिया चली गयी और एक रूम मे मैं चला गया मुझे भी फ्रेश हो कर ऑफीस के काम से जाना था और उनको भी एग्ज़ॅम देना था एक घंटे बाद मैं रेडी होकर जाने लगा तभी डोर नॉक हुवा मैंने डोर ओपन किया तो देखा की तीनो लड़किया आई है और बोली की हम लोग एग्ज़ॅम देने जा रही है शाम को चार बजे वापस आएँगे आपका क्या प्रोग्राम है तो मैने बोला की ठीक है मैं भी शाम 5पीयेम बजे तक आ जाउन्गा उसके बाद हुमलोग कही चलेंगे क्यू की हमारी ट्रेन फिर नेक्स्ट डे मॉर्निंग की थी तो रात तो हमे होटेल मे ही रहना था उसके बाद वो लोग एग्ज़ॅम देने और मैं ऑफीस के काम चला गया और शाम की यादो मे खो गया बट जब शाम हुई तो काफ़ी जोरो की बारिश स्टार्ट हो गयी किसी तरह से मैं होटेल पहुचा फिर रूम मे आया तो देखा वो लोग पहले से ही आ गयी थी.

और आपने रूम मे थी मैं भी उनके रूम मे गया और एग्ज़ॅम के बारे मे पूछा फिर बोला की चेंज करके आता हूँ क्यू की मैं थोड़ा बारिश मे भीग चुका था करीब 15मिनट के बाद वो लोग मेरे रूम मे आई और बोली की अब बाहर तो नही जा सकते काफ़ी बारिश हो रही है क्यू ना आप के रूम मे ही आज पार्टी की जाई मैने भी ओके बोला और फिर उन लोगो ने मुझसे पूछा की क्या आप ड्रिंक करते हो तो मैने बोला नही मैं ड्रिंक नही करता तो वो बोली की आज थोड़ा कर लो मज़ा आएगा हम लोग भी करेंगे फिर उन्होने बोला की हम लोगो ने सब मंगवा लिया है बस आप वोड्का की एक बोटेल ले आओ मैने भी ओके बोला और वोड्का मंगवा लिया फिर स्टार्ट हो गयी पार्टी काफ़ी कुछ मँगवाया था उन लोगो ने एक पेग पीते ही मुझे बड़ा अछा लगने लगा मैं बेड के बीचो बीच फ्लॅट लेट गया मैं सिर्फ़ बरमुंडा और टी शर्ट पहना था और वो लोग मेरे साइड मे बैठी थी एक ने मेरे लंड पे हाथ रखा और सहलाने लगी तो कोई मेरे चेस्ट को तो कोई मेरे थाइ को मुझे भी बड़ा मज़ा आ रहा था.

फिर एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिए और अपने भी कोई मेरे लंड को चूस रही थी तो कोई अपनी चुचि को मेरे मूह मे डाल रही थी तो कोई पूरे बॉडी को चूम रही थी और मैं कभी किसी की तो कभी किसी की चुचिया दबा रहा था तो कभी सहला रहा था फिर एक ने बोला कॉंडम लाए हो मैने ना बोला तो बोली ले कर आना था ना तो मैने सॉरी बोला और बोला अभी जाकर ले आता हूँ तो बोली ठीक है चले जाना रात मे काम आ जाएगा और तीनो हसणे लगी फिर उन्होने बोला की एक काम करो तुम अब उठो हमे लेटने दो और तीनो लेट गयी अब तुम हमे बारी बारी से करो बट ध्यान रहे पानी अंदर नही छोड़ना मैने ओके बोला अब मैं बारी बारी से तीनो को चोदने लगा किसी मे ज़्यादा टाइम हो जाता तो दूसरी बोलती की अब मुझे भी करो सारा माल उसी मे डालोगे क्या और फिर तीनो हसणे लगती दो बार झड़ने तक उनको चोदा फिर हमलोग खाने का ऑर्डर दिया फिर खाने के बाद मैं कॉंडम ले कर आया और रात भर चुदाई हुई क्या हसीन रात थी वो.